शनिवार, 8 जुलाई 2017

जीएसटी क्या और क्यों ? (GST what and why ? )

जीएसटी क्या और क्यों ? (GST what and why ? )

 जीएसटी क्या और क्यों? ?

भारत में नया गुड्स ऐंड सर्विस टैक्स (जीएसटी)(वस्तु एवं सेवा कर  ) एक जुलाई 2017 से लागू हो गया है.
 GST केवल अप्रत्यक्ष करों को एकीकृत करेगा, प्रत्यक्ष कर जैसे आय-कर आदि वर्तमान व्यवस्था के अनुसार ही लगेंगे।
·  जीएसटी के लागू होने से पूरे भारत में एक ही प्रकार का अप्रत्यक्ष कर लगेगा जिससे वस्तुओं और सेवाओं की लागत में स्थिरता आएगी
·   संघीय ढांचे को बनाए रखने के लिए जीएसटी दो स्तर पर लगेगा – सीजीएसटी (केंद्रीय वस्तु एंव सेवा कर) और एसजीएसटी (राज्य वस्तु एंव सेवा कर)। सीजीएसटी का हिस्सा केंद्र को और एसजीएसटी का हिस्सा राज्य सरकार को प्राप्त होगा।एक राज्य से दूसरे राज्य में वस्तुओं और सेवाओं की बिक्री की स्थति में आईजीएसटी (एकीकृत वस्तु एंव सेवाकर) लगेगा। आईजीएसटी का एक हिस्सा केंद्रसरकार और दूसरा हिस्सा वस्तु या सेवा का उपभोग करने वाले राज्य को प्राप्त होगा।
·  व्यवसायी ख़रीदी गई वस्तुओं और सेवाओं पर लगने वाले जीएसटी की इनपुट क्रेडिट ले सकेंगे जिनका उपयोग वे बेचीं गई वस्तुओं और सेवाओं पर लगने वाले जीएसटी के भुगतान में कर सकेंगे।सीजीएसटी की इनपुट क्रेडिट का उपयोग आईजीएसटी व सीजीएसटी के आउटपुट टैक्स के भुगतान, एसजीएसटी की क्रेडिट का उपयोग एसजीएसटी व आईजीएसटी के आउटपुट टैक्स के भुगतान और आईजीएसटी की क्रेडिट का उपयोग आईजीएसटी, सीजीएसटी व एसजीएसटी के आउटपुट टैक्स के भुगतान में किया जा सकेगा ।
·   GST के तहत उन सभी व्यवसायी, उत्पादक या सेवा प्रदाता को रजिस्टर्ड होना होगा जिन की वर्षभर में कुल बिक्री का मूल्य एक निश्चित मूल्य से ज्यादा है।
·   प्रस्तावित जीएसटी में व्यवसायियों को मुख्य रूप से तीन अलग अलग प्रकार के टैक्स रिटर्न भरने होंगे जिसमें इनपुट टैक्स, आउटपुट टैक्स और एकीकृत रिटर्न शामिल है।

लेन-देन                         नई प्रणाली                     पुरानी व्यवस्था                          व्याख्या
राज्य के भीतर बिक्री       सीजीएसटी + एसजीएसटी     वैट + केंद्रीय उत्पाद शुल्क / सेवा कर              राजस्व अब केंद्र और राज्य के बीच साझा किया जाएगा
दूसरे राज्य को बिक्री     आईजीएसटी     केंद्रीय बिक्री कर + उत्पाद शुल्क / सेवा कर     अंतरराज्यीय बिक्री के मामले में अब केवल एक प्रकार का कर (केंद्रीय) होगा।



लेन-देन     नई प्रणाली     पुरानी व्यवस्था     व्याख्या
राज्य के भीतर बिक्री     सीजीएसटी + एसजीएसटी     वैट + केंद्रीय उत्पाद शुल्क / सेवा कर     राजस्व अब केंद्र और राज्य के बीच साझा किया जाएगा
दूसरे राज्य को बिक्री     आईजीएसटी     केंद्रीय बिक्री कर + उत्पाद शुल्क / सेवा कर     अंतरराज्यीय बिक्री के मामले में अब केवल एक प्रकार का कर (केंद्रीय) होगा।


जीएसटी काउंसिल ने 1200 से ज़्यादा वस्तुओं-सेवाओं के लिए टैक्स दरें तय की हैं.

अलग-अलग टैक्स श्रेणियां बनाई गई हैं जो 5 से 28 फ़ीसदी के बीच हैं.

इनमें से 81 फ़ीसदी चीज़ें 18 फ़ीसदी टैक्स दर के नीचे आएंगी.

खाने की बुनियादी चीज़ें, मसलन दूध, नमक और अनाज वगैरह को ज़ीरो टैक्स कैटेगरी में रखा गया है.


(GST)जीएसटी list pic

संबंधित टैग:
,जीएसटी क्या है और यह कैसे काम करेगा,जी एस टी बिल क्या है व GST में क्या मेहगा क्या,जी एस टी(GST) या वस्तु एवं सेवा कर   एक आसान व्याख्या,Good and Services Tax (GST Bill Meaning Hindi / Eng),What is GST in Hindi?:जीएसटी से जुड़े अपने सारे सवालों,,जाने, आखिर क्या है GST बिल और क्या होंगे,GST से क्या होगा सस्ता और क्या महंगा,जीएसटी बिल में हिंदी पीडीएफ,हिंदी में नवीनतम समाचार,हिंदी पीडीएफ डाउनलोड में जीएसटी बिल,जीएसटी विकिपीडिया हिंदी में,हिंदी में जीएसटी का इतिहास,हिंदी समाचार में जीएसआर बिल,जीएसटी क्या है मुझे हिंदी,सरल शब्दों में जीएसटी बिल क्या है,gst bill in hindi pdf,gst latest news in hindi,gst bill in hindi pdf download,gst wikipedia in hindi,gst history in hindi,gst bill in hindi news,gst kya hai hindi me,what is gst bill in simple terms

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
Child Education Child Shiksha - Gk Updates | Current affairs