सोमवार, 22 फ़रवरी 2016

जीवनी (Biography in Hindi ) : श्रीमती भीखाजी जी रूस्तम कामा (मैडम कामा) - सामान्य ज्ञान





श्रीमती भीखाजी जी रूस्तम कामा (मैडम कामा)

श्रीमती भीखाजी जी रूस्तम कामा (मैडम कामा) |  जीवनी (Biography)

मैडम कामा भारतीय मूल की फ्रांसीसी नागरिक थीं जिन्होने लन्दन, जर्मनी तथा अमेरिका का भ्रमण कर भारत की स्वतंत्रता के पक्ष में माहौल बनाया।


उनके द्वारा पेरिस से प्रकाशित "वन्देमातरम्" पत्र प्रवासी भारतीयों में काफी लोकप्रिय हुआ। 1909 में जर्मनी के स्टटगार्ट में हुयी अन्तर्राष्ट्रीय सोशलिस्ट कांग्रेस में मैडम भीकाजी कामा ने कहा कि - ‘‘भारत में ब्रिटिश शासन जारी रहना मानवता के नाम पर कलंक है। एक महान देश भारत के हितों को इससे भारी क्षति पहुँच रही है।’’ उन्होंने लोगों से भारत को दासता से मुक्ति दिलाने में सहयोग की अपील की और भारतवासियों का आह्वान किया कि


 यही नहीं मैडम भीकाजी कामा ने इस कांफ्रेंस में वन्देमातरम्’अंकित भारतीय ध्वज फहरा कर अंग्रेजों को कड़ी चुनौती दी। मैडम भीकाजी कामा लन्दन में दादा भाई नौरोजी की प्राइवेट सेक्रेटरी भी रहीं। धनी परिवार में जन्म लेने के बावजूद इस साहसी महिला ने आदर्श और दृढ़ संकल्प के बल पर निरापद तथा सुखी जीवन वाले वातावरण को तिलांजलि दे दी और शक्ति के चरमोत्कर्ष पर पहुँचे साम्राज्य के विरुद्ध क्रांतिकारी कार्यों से उपजे खतरों तथा कठिनाइयों का सामना किया।

श्रीमती कामा का बहुत बड़ा योगदान साम्राज्यवाद के विरुद्ध विश्व जनमत जाग्रत करना तथा विदेशी शासन से मुक्ति के लिए भारत की इच्छा को दावे के साथ प्रस्तुत करना था।

भारत की स्वाधीनता के लिए लड़ते हुए उन्होंने लंबी अवधि तक निर्वासित जीवन बिताया था। तथ्यों के मुताबिक भीकाजी हालांकि अहिंसा में विश्वास रखती थीं लेकिन उन्होंने अन्यायपूर्ण हिंसा के विरोध का आह्वान भी किया था। उन्होंने स्वराज के लिए आवाज उठाई और नारा दिया




भीकाजी कामा का जन्म 24 सितम्बर 1861 को बम्बई में एक पारसी परिवार में हुआ था। उनमें लोगों की मदद और सेवा करने की भावना कूटकूट कर भरी थी।

वर्ष 1896 में मुम्बई में प्लेग फैलने के बाद भीकाजी ने इसके मरीजों की सेवा की थी। बाद में वह खुद भी इस बीमारी की चपेट में गई थीं। इलाज के बाद वह ठीक हो गई थीं लेकिन उन्हें आराम और आगे के इलाज के लिए यूरोप जाने की सलाह दी गई थी। वर्ष 1902 में वह इसी सिलसिले में लंदन गईं और वहां भी उन्होंने भारतीय स्वाधीनता संघर्ष के लिए काम जारी रखा। भीकाजी ने वर्ष 1905 में अपने सहयोगियों विनायक दामोदर सावरकर और श्यामजी कृष्ण वर्मा की मदद से भारत के ध्वज का पहला डिजाइन तैयार किया था।

 भीकाजी कामा ने 22 अगस्त 1907 को जर्मनी में हुई इंटरनेशनल सोशलिस्ट कांफ्रेंस में भारतीय स्वतंत्रता के ध्वज को बुलंद किया था उस सम्मेलन में उन्होंने भारत को अंग्रेजी शासन से मुक्त करने की अपील की थी। उनके तैयार किए गए झंडे से काफी मिलतेजुलते डिजायन को बाद में भारत के ध्वज के रूप में अपनाया गया वह अपने क्रांतिकारी विचार अपने समाचार-पत्र वंदेमातरम्’ तथा‘तलवार’ में प्रकट करती थीं।
 

श्रीमती कामा की लड़ाई दुनिया-भर के साम्रज्यवाद के विरुद्ध थी। वह भारत के स्वाधीनता आंदोलन के महत्त्व को खूब समझती थीं, जिसका लक्ष्य संपूर्ण पृथ्वी से साम्राज्यवाद के प्रभुत्व को समाप्त करना था। उनके सहयोगी उन्हें भारतीय क्रांति की माता मानते थे; जबकि अंग्रेज उन्हें कुख्यात् महिला, खतरनाक क्रांतिकारी, अराजकतावादी क्रांतिकारी, ब्रिटिश विरोधी तथा असंगत कहते थे। यूरोप के समाजवादी समुदाय में श्रीमती कामा का पर्याप्त प्रभाव था। यह उस समय स्पष्ट हुआ जब उन्होंने यूरोपीय पत्रकारों को अपने देश-भक्तों के बचाव के लिए आमंत्रित किया। वह भारतीय राष्ट्रीयता की महान पुजारिनके नाम से विख्यात थीं। फ्रांसीसी अखबारों में उनका चित्र जोन ऑफ आर्क के साथ आया। यह इस तथ्य की भावपूर्ण अभिव्यक्ति थी कि श्रीमती कामा का यूरोप के राष्ट्रीय तथा लोकतांत्रिक समाज में विशिष्ट स्थान था।







www.gkinhindi.net
 मैडम भीकाजी कामा ने भारत का पहला झंडा फहराया उसमें हरा, केसरिया तथा लाल रंग के पट्टे थे। लाल रंग यह शक्ति का प्रतीक है, केसरिया विजय का तथा हरा रंग साहस एवं उत्साह का प्रतीक है। उसी प्रकार 8 कमल के फूल भारत के 8 राज्यों के प्रतीक थे।वन्दे मातरम्यह देवनागरी अक्षरों में झंडे के मध्य में लिखा था। यह झंडा वीर विनायक दामोदर सावरकर और श्यामजी कृष्ण वर्मा ने अन्य क्रांतिकारियों के साथ मिलकर बनाया था

1907 . में स्टुटगार्ड (जर्मनी) में 'अंतर्राष्ट्रीय समाजवाद सम्मेलन' में मैडम कामा ने तिरंगा झण्डा फहराया और घोषणा की- यह भारतीय स्वतंत्रता का ध्वज है। इसका जन्म हो चुका है। हिन्दुस्तान के युवा वीर सपूतों के रक्त से यह पहले ही पवित्र हो चुका है। यहाँ उपस्थित सभी महानुभावों से मेरा निवेदन है कि सब खड़े होकर हिन्दुस्तान की आज़ादी के इस ध्वज की वंदना करें सभी ने खड़े होकर ध्वज वंदना की। मैडम कामा को 'क्रांति-प्रसूता' कहा जाने लगा।

भीकाजी द्वारा लहराए गए झंडे में देश के विभिन्न धर्मों की भावनाओं और संस्कृति को समेटने की कोशिश की गई थी। उसमें इस्लाम, हिंदुत्व और बौद्ध मत को प्रदर्शित करने के लिए हरा, पीला और लाल रंग इस्तेमाल किया गया था। साथ ही उसमें बीच में देवनागरी लिपि में वंदे मातरम लिखा हुआ था।





प्रथम विश्वयुद्ध के दौरान उन्हें काफ़ी कष्ट झेलने पड़े। भारत में उनकी सम्पत्ति जब्त कर ली गई। उन्हें एक देश से दूसरे देश में लगातार भागना पड़ा। वृद्धावस्था में वे भारत लौटी तथा 13 अगस्त, 1936 को बम्बई (वर्तमान मुम्बई) में गुमनामी की हालत में उनका देहांत हो गया।







Bharat Me Pratham Madam Cama in hindi
महिला Madam Cama
Biography of Madam Bhikaji Cama
श्रीमती भीखाजी जी रूस्तम कामा (मैडम कामा) |  जीवनी (Biography)

श्रीमती भीखाजी जी रूस्तम कामा

भारत - कामयाबी के शिखर पर भारतीय ...

भारतीय Madam Cama- लीड द कम्पटीशन

Madam Cama - Madame Cama Biography

life history of madam cama( Bhikaji Rustom Cama)

Short Biography of Madam Bhikaji Rustom Cama

मैडम कामा : भारत की स्वतंत्रता के भारतीय

भीखाजी कामा की जीवनी - Bhikhaji Cama Biography

Biography of Madam Bhikaji Cama
श्रीमती भीखाजी जी रूस्तम कामा
Women in India madam cama( Bhikaji Rustom Cama)

India's  most influential women madam cama( Bhikaji Rustom Cama)
Smart Indian Women madam cama( Bhikaji Rustom Cama)

Top women achieversmadam cama( Bhikaji Rustom Cama

Most Powerful Women madam cama( Bhikaji Rustom Cama)
madam cama( Bhikaji Rustom Cama)Most Inspirational Indian Women
madam cama( Bhikaji Rustom Cama) most powerful Indian women
madam cama( Bhikaji Rustom Cama) first india woman achievers
madam cama( Bhikaji Rustom Cama) great womens of india achievements
madam cama( Bhikaji Rustom Cama) great womens of india wikipedia
madam cama( Bhikaji Rustom Cama)great womens of indian history
madam cama( Bhikaji Rustom Cama) Women in India
madam cama( Bhikaji Rustom Cama) achieved womens in india

firsts women madam cama( Bhikaji Rustom Cama)in India
madam cama( Bhikaji Rustom Cama)in India - Women - Lead the Competition
madam cama( Bhikaji Rustom Cama)India Female Personalities









"मैं भी छू सकती हूं आकाश…. मौके की है मुझे तलाश."- भारतीय महिलाएं



0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
Child Education Child Shiksha - Gk Updates | Current affairs