शनिवार, 8 जुलाई 2017

जीएसटी क्या और क्यों ? (GST what and why ? )

जीएसटी क्या और क्यों ? (GST what and why ? )

 जीएसटी क्या और क्यों? ?

भारत में नया गुड्स ऐंड सर्विस टैक्स (जीएसटी)(वस्तु एवं सेवा कर  ) एक जुलाई 2017 से लागू हो गया है.
 GST केवल अप्रत्यक्ष करों को एकीकृत करेगा, प्रत्यक्ष कर जैसे आय-कर आदि वर्तमान व्यवस्था के अनुसार ही लगेंगे।
·  जीएसटी के लागू होने से पूरे भारत में एक ही प्रकार का अप्रत्यक्ष कर लगेगा जिससे वस्तुओं और सेवाओं की लागत में स्थिरता आएगी
·   संघीय ढांचे को बनाए रखने के लिए जीएसटी दो स्तर पर लगेगा – सीजीएसटी (केंद्रीय वस्तु एंव सेवा कर) और एसजीएसटी (राज्य वस्तु एंव सेवा कर)। सीजीएसटी का हिस्सा केंद्र को और एसजीएसटी का हिस्सा राज्य सरकार को प्राप्त होगा।एक राज्य से दूसरे राज्य में वस्तुओं और सेवाओं की बिक्री की स्थति में आईजीएसटी (एकीकृत वस्तु एंव सेवाकर) लगेगा। आईजीएसटी का एक हिस्सा केंद्रसरकार और दूसरा हिस्सा वस्तु या सेवा का उपभोग करने वाले राज्य को प्राप्त होगा।
·  व्यवसायी ख़रीदी गई वस्तुओं और सेवाओं पर लगने वाले जीएसटी की इनपुट क्रेडिट ले सकेंगे जिनका उपयोग वे बेचीं गई वस्तुओं और सेवाओं पर लगने वाले जीएसटी के भुगतान में कर सकेंगे।सीजीएसटी की इनपुट क्रेडिट का उपयोग आईजीएसटी व सीजीएसटी के आउटपुट टैक्स के भुगतान, एसजीएसटी की क्रेडिट का उपयोग एसजीएसटी व आईजीएसटी के आउटपुट टैक्स के भुगतान और आईजीएसटी की क्रेडिट का उपयोग आईजीएसटी, सीजीएसटी व एसजीएसटी के आउटपुट टैक्स के भुगतान में किया जा सकेगा ।
·   GST के तहत उन सभी व्यवसायी, उत्पादक या सेवा प्रदाता को रजिस्टर्ड होना होगा जिन की वर्षभर में कुल बिक्री का मूल्य एक निश्चित मूल्य से ज्यादा है।
·   प्रस्तावित जीएसटी में व्यवसायियों को मुख्य रूप से तीन अलग अलग प्रकार के टैक्स रिटर्न भरने होंगे जिसमें इनपुट टैक्स, आउटपुट टैक्स और एकीकृत रिटर्न शामिल है।

लेन-देन                         नई प्रणाली                     पुरानी व्यवस्था                          व्याख्या
राज्य के भीतर बिक्री       सीजीएसटी + एसजीएसटी     वैट + केंद्रीय उत्पाद शुल्क / सेवा कर              राजस्व अब केंद्र और राज्य के बीच साझा किया जाएगा
दूसरे राज्य को बिक्री     आईजीएसटी     केंद्रीय बिक्री कर + उत्पाद शुल्क / सेवा कर     अंतरराज्यीय बिक्री के मामले में अब केवल एक प्रकार का कर (केंद्रीय) होगा।



लेन-देन     नई प्रणाली     पुरानी व्यवस्था     व्याख्या
राज्य के भीतर बिक्री     सीजीएसटी + एसजीएसटी     वैट + केंद्रीय उत्पाद शुल्क / सेवा कर     राजस्व अब केंद्र और राज्य के बीच साझा किया जाएगा
दूसरे राज्य को बिक्री     आईजीएसटी     केंद्रीय बिक्री कर + उत्पाद शुल्क / सेवा कर     अंतरराज्यीय बिक्री के मामले में अब केवल एक प्रकार का कर (केंद्रीय) होगा।


जीएसटी काउंसिल ने 1200 से ज़्यादा वस्तुओं-सेवाओं के लिए टैक्स दरें तय की हैं.

अलग-अलग टैक्स श्रेणियां बनाई गई हैं जो 5 से 28 फ़ीसदी के बीच हैं.

इनमें से 81 फ़ीसदी चीज़ें 18 फ़ीसदी टैक्स दर के नीचे आएंगी.

खाने की बुनियादी चीज़ें, मसलन दूध, नमक और अनाज वगैरह को ज़ीरो टैक्स कैटेगरी में रखा गया है.


(GST)जीएसटी list pic

संबंधित टैग:
,जीएसटी क्या है और यह कैसे काम करेगा,जी एस टी बिल क्या है व GST में क्या मेहगा क्या,जी एस टी(GST) या वस्तु एवं सेवा कर   एक आसान व्याख्या,Good and Services Tax (GST Bill Meaning Hindi / Eng),What is GST in Hindi?:जीएसटी से जुड़े अपने सारे सवालों,,जाने, आखिर क्या है GST बिल और क्या होंगे,GST से क्या होगा सस्ता और क्या महंगा,जीएसटी बिल में हिंदी पीडीएफ,हिंदी में नवीनतम समाचार,हिंदी पीडीएफ डाउनलोड में जीएसटी बिल,जीएसटी विकिपीडिया हिंदी में,हिंदी में जीएसटी का इतिहास,हिंदी समाचार में जीएसआर बिल,जीएसटी क्या है मुझे हिंदी,सरल शब्दों में जीएसटी बिल क्या है,gst bill in hindi pdf,gst latest news in hindi,gst bill in hindi pdf download,gst wikipedia in hindi,gst history in hindi,gst bill in hindi news,gst kya hai hindi me,what is gst bill in simple terms

मंगलवार, 4 जुलाई 2017

राज्य | मुख्यमंत्री | प्रारंभ दिनांक | पार्टी पूरी सूची| (State ,CM,Start Date,Party full list )


  राज्य | मुख्यमंत्री | प्रारंभ दिनांक |  पार्टी पूरी सूची| (State ,CM,Start Date,Party full list )

 

                        मुख्यमंत्री ( C M List )

 

 

क्रमांक    राज्य                        मुख्यमंत्री                     प्रारंभ दिनांक               पार्टी


1 आंध्र प्रदेश                         नारा चंद्रबाबू नायडू           8 जून 2014           तेलुगू देशम पार्टी
3 अरुणाचल प्रदेश                   पामा खांडू                        27 जनवरी 2017      भारतीय जनता पार्टी
4 असम                                  सरबानंद सोनोवाल             24 मई 2016           भारतीय जनता पार्टी
5 बिहार                                  नीतीश कुमार                     22 फरवरी 2015      जनता दल (संयुक्त)
7 छत्तीसगढ़                            डॉ। रमन सिंह                   7 दिसंबर 2003        भारतीय जनता पार्टी
10 दिल्ली (एनसीटी)            अरविंद केजरीवाल              14 फरवरी 2015      आम आदमी पार्टी
11 गोवा                                 मनोहर पर्रीकर                   मार्च  14, 2017       भारतीय जनता पार्टी
12 गुजरात                             विजयभाई आर। रुपानी       7 अगस्त 2016        भारतीय जनता पार्टी
13 हरियाणा                            मनोहर लाल                     26 अक्टूबर 2014      भारतीय जनता पार्टी
14 हिमाचल प्रदेश                  वीरभद्र सिंह                     25 दिसंबर 2012      भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
15 जम्मू और कश्मीर                मेहबूबा मुफ्ती सईद              4 अप्रैल 2016        जम्मू और कश्मीर पीपल्स डेमोक्रेटिक पार्टी
 
16 झारखंड                           रघुबार दास                        28 दिसंबर 2014      रतीय जनता पार्टी
17 कर्नाटक                          सिद्धारमैया                          13 मई 2013          भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
18 केरल                              पिनराययी विजयन                25 मई 2016          भारतीय कम्युनिस्ट                                                                                                                                         पार्टी (मार्क्सवादी)

20 मध्य प्रदेश                      शिवराज सिंह चौहान              2 9 नवंबर 2005       भारतीय जनता पार्टी
21 महाराष्ट्र                        देवेंद्र फड़नवीस                   31 अक्टूबर 2014      भारतीय जनता पार्टी
22 मणिपुर                           नोंगथोम्बम बिरेन सिंह            15 मार्च 2017            भारतीय जनता पार्टी
23 मेघालय                          डॉ, मुकुल संगमा                   20 अप्रैल 2010        इंडियन नेशनल कांग्रेस
24 मिजोरम                         लाल थान्हौला                      7 दिसंबर 2008           भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
25 नागालैंड                       डॉ। शूरोज़ेलि लिज़िएत्सू         22 फरवरी 2017         नागा पीपल्स फ्रंट
26 उड़ीसा                         नवीन पटनायक                     5 मार्च 2000              बिजू जनता दल
27 पुडुचेरी (यूटी)            वी नारायणसामी                     6 जून 2016               इंडियन नेशनल कांग्रेस
28 पंजाब                           कप्तान अमरिंदर सिंह             16 मार्च 2017             इंडियन नेशनल कांग्रेस
29 राजस्थान                     वसुंधरा राजे                         13 दिसंबर 2013          भारतीय जनता पार्टी
30 सिक्किम                       पवन कुमार चामलिंग              12 दिसंबर 1994         सिक्किम डेमोक्रेटिक फ्रंट
31 तमिलनाडु                     एडप्पी के पलानीस्वामी           16 फरवरी 2017         अखिल भारतीय अन्ना
                                                                                                                         द्रविड़  मुनेत्र कज़गम


32 तेलंगाना                       के चंद्रशेखर राव                     2 जून 2014           तेलंगाना राष्ट्र समिति
33 त्रिपुरा                         माणिक सरकार                       11 मार्च 1998          भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी  

                                                                                               (मार्क्सवादी)

34 उत्तर प्रदेश                   योगी आदित्यनाथ                    19 मार्च 2017          भारतीय जनता पार्टी
35 उत्तराखंड                     त्रिवेंद्र सिंह रावत                  18 मार्च 2017             भारतीय जनता पार्टी
36 पश्चिम बंगाल                ममता बनर्जी                            20 मई 2011              अखिल भारतीय तृणमूल कांग्रेस


संबंधित टैग:
चीफ मिनिस्टर्स,Delhi ka mukhya mantri Kon h ,Chief Minister of Delhi ,delhi ke mukhyamantri ka naam ,delhi ke mukhyamantri kaun hai ,delhi ke mukhyamantri ka naam kya hai ,delhi ka mukhya mantri kaun hai ,delhi ka mukhyamantri ,delhi chief minister list ,delhi ke mukhyamantri kon hai ,delhi ka mukhya mantri ka naam ,cm list of delhi ,List of Chief Ministers of Delhi ,Who is the Chief Minister of Bihar? ,Who is the first chief minister of Haryana? ,Who is the Minister of Delhi? ,Who is the Chief Minister of Delhi? ,chief minister of delhi 2017, , ,chief minister of delhi salary , ,first woman chief minister of delhi ,chief minister of delhi 2016 , ,prime minister of delhi ,दिल्ली के मुख्य मंत्री कांह, दिल्ली के मुख्यमंत्री, दिल्ली के मुखियामंत्र का नाम, दिल्ली के मुखियामत्री का है, दिल्ली के मुखिया मंत्री का नाम है, दिल्ली का मुख मंत्री का है, दिल्ली का मुखमंत्र, दिल्ली मुख्यमंत्री की सूची, दिल्ली की मुखमंत्रण है, दिल्ली का मुख मंत्री का नाम, दिल्ली की सीएम सूची, दिल्ली के मुख्यमंत्रियों की सूची, बिहार के मुख्यमंत्री कौन हैं? , हरियाणा के पहले मुख्यमंत्री कौन हैं? , दिल्ली मंत्री कौन हैं? , दिल्ली के मुख्यमंत्री कौन हैं? , दिल्ली मुख्यमंत्री, 2017, दिल्ली के मुख्यमंत्री, दिल्ली की पहली महिला मुख्यमंत्री, दिल्ली 2016 की मुख्यमंत्री, दिल्ली के प्रधान मंत्री,Arunachal Pradesh (list)    Pema Khandu    Bharatiya Janata Party
Assam (list), Sarbananda Sonowal 
Bihar (list), Nitish Kumar    Janata Dal (United)
Chhattisgarh (list),Raman Singh


"हारना सबसे बुरी विफलता नहीं है। कोशिश ना करना ही सबसे बड़ी विफलता है।"-www.GKinHindi.Net







रविवार, 25 जून 2017

12 सेकेंड में जानें | जनसंख्या, साक्षरता, धर्म, विविधता,प्रति व्यक्ति कमाई,आयु, जीवन स्तर अनुपात


जनसंख्या अनुपात, साक्षरता अनुपात, धर्म अनुपात, विविधता अनुपात,प्रति व्यक्ति कमाई अनुपात,आयु अनुपात, जीवन स्तर  अनुपात



12 सेकेंड में जानें | जनसंख्या, साक्षरता, धर्म, विविधता,प्रति व्यक्ति कमाई,आयु, जीवन स्तर  अनुपात

  जनसंख्या अनुपात, साक्षरता अनुपात, धर्म अनुपात, विविधता अनुपात,प्रति व्यक्ति कमाई अनुपात,आयु अनुपात, जीवन स्तर  अनुपात(
Population ratio, literacy ratio, religion ratio, diversity ratio, per capita income ratio, age ratio, living standard ratio



 जनसंख्या, साक्षरता, धर्म, विविधता,प्रति व्यक्ति कमाई, जीवन स्तर अनुपात

 population ,literacy ,religion,divercity ,living statndard,






शनिवार, 24 जून 2017

पीएसएलवी-सी 38((PSLV -C38 )) | 1 उपग्रह और 30 नैनो उपग्रह 14 देश | विस्तृत | उपयोग | विशेषताएं | www.GKinHindi.Net

पीएसएलवी-सी 38((PSLV -C38 )) | 1 उपग्रह और 30  नैनो उपग्रह 14 देश |

 पीएसएलवी-सी 38(PSLV -C38 )

इसरो पीएसएलवी-सी38 योजना के अनुसार पहले लॉन्च पैड से सुबह नौ बजकर 29 मिनट पर उड़ा और कुछ मिनटों बाद इसने उपग्रहों को कक्षा में प्रक्षेपित कर दिया। पीएसएलवी द्वारा लॉन्च कुल भारतीय उपग्रहों की संख्या अब 48 हो गई है।

आने वाले दिनों में उपग्रह अपने पैनक्रोमैटिक (ब्लैक एंड व्हाइट) और मल्टीस्पेक्ट्रल (कलर) कैमरों की मदद से कई तरह की रिमोट सेंसिंग सेवाएं देगा।

पीएसएलवी के साथ गए उपग्रहों में एक नैनो उपग्रह तमिलनाडु स्थित कन्याकुमारी जिले की नूरुल इस्लाम यूनिवसर्टिी द्वारा डिजाइन और विकसित किया गया। यह एनआईयूसैट फसलों के निरीक्षण और आपदा प्रबंधन के सहयोगी अनुप्रयोगों के लिए तस्वीरें उपलब्ध करवाएगा। दो भारतीय उपग्रहों के अलावा पीएसएलवी के साथ गए 31 नैनो उपग्रह 14 देशों के हैं। ये देश हैं-
ने शुक्रवार को अपने प्रमुख रॉकेट प्रक्षेपण यान पीएसएलवी से 712 किलोग्राम के कार्टोसैट-2 श्रृंखला के एक उपग्रह और 30 नैनो उपग्रहों को कक्षा में स्थापित किया। प्रक्षेपण श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से किया गया। यह पीएसएलवी का लगातार 39वां सफल मिशन था।

पीएसएलवी-सी 38 (PSLV -C38 ) 31 नैनो उपग्रह 14 देशों के हैं। ये देश हैं-

  1. ऑस्ट्रिया (1)
  2. बेल्जियम (3)
  3. चिली (1)
  4. चेक रिपब्लिक (1)
  5. फिनलैंड (1)
  6. फ्रांस (1)
  7. जर्मनी (1)
  8. इटली (3)
  9. जापान (1)  
  10. लातविया (1)
  11. लिथुआनिया (1) 
  12. स्लोवाकिया (1) 
  13. ब्रिटेन (3)
  14. और अमेरिका (10)
आज के सफल प्रक्षेपण के साथ विदेशों से भारत के पीएसएलवी द्वारा कक्षा में स्थापित किए गए ग्राहक उपग्रहों की कुल संख्या 209 पहुंच गई है। अंतरिक्ष वैज्ञानिकों ने पीएसएलवी-सी38 मिशन में कई ऐसे नवोन्मेष किए हैं, जो उपग्रहों को एक से अधिक कक्षाओं में किफायती ढंग से प्रक्षेपित करने में मदद करेंगे।

विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केंद्र के निदेशक के. सिवान ने कहा कि आज का प्रक्षेपण इसरो के लिए कोई नियमित मिशन नहीं था क्योंकि वैग्यानिकों ने इसमें कई नवोन्मेष किए हैं। उन्होंने कहा, “हमने इस मिशन में कई नवोन्मेष किए हैं। उपग्रह अलग होने के बाद, पीएस4- चौथा ऊपरी चरण- 10 अन्य कक्षाओं के लिए सक्रिय रहेगा और यह बेहद खर्चीले प्रयोगों के लिए एक बहुत अच्छा और किफायती मंच उपलब्ध करवाएगा। उन्होंने कहा कि ऐसे प्रयोग पहले ही किए जा चुके हैं और मनचाहे नतीजे प्राप्त किए जा चुके हैं। उन्होंने कहा कि वहां ऐसे कई अदभुत काम होने वाले हैं।

इसरो के प्रमुख रॉकेट पीएसएलवी (पीएसएलवी-सी38) ने अपनी 40वीं उड़ान में कार्टोसैट-2 श्रृंखला के उपग्रह को प्रक्षेपित किया।यह उपग्रह रक्षा बलों के लिए समर्पति है। इसके अलावा पीएसएलवी अपने साथ 30 नैनो उपग्रह लेकर गया है। कार्टोसैट-2 रिमोट सेंसिंग उपग्रह है।

पीएसएलवी-सी 38 मिशन के निदेशक बी जयकुमार ने कहा कि इसरो ने तीसरी बार पीएस4 (रॉकेट के चौथे चरण) उुपरी चरण को पुन: चालू करके दिखाया है। उन्होंने कहा, “इसके साथ मैं इस बात को लेकर आश्वस्त हूं कि हम उपग्रह दल की जरूरत के मुताबिक उपग्रहों को कई कक्षाओं में स्थापित करने में सफल रहेंगे। यह माह इसरो के लिए ऐतिहासिक होने जा रहा है क्योंकि 18 दिनों की अवधि में इसने जीएसएलवी मार्क3 और पीएसएलवी-सी38 जैसे दो बड़े प्रक्षेपणों को अंजाम दिया है।

सिवान ने कहा कि इतिहास रचना इसरो की जीवनशैली बन चुकी है। उन्होंने कहा कि पिछले 50 दिनों में इसरो ने उपग्रहों की विविधता के साथ पीएसएलवी, जीएसएलवी, जीएसएलवी मार्क 3 नामक तीन बड़े मिशन प्रक्षेपित किए हैं। उन्होंने कहा, यह सब कुछ 50 दिन की छोटी सी अवधि में हुआ है।यह सब इसरो की टीम की मेहनत के कारण संभव हुआ। सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र के निदेशक कुन्ही कृष्णन ने कहा कि पीएसएलवी-सी38 के सफल प्रक्षेपण ने स्पष्ट तौर पर दिखा दिया कि वह सबसे अधिक विसनीय प्रक्षेपण यानों में से एक है।

पीएसएलवी-सी 38 विशेषताएं :-

  •     एसलवी सी-38 का लॉन्च कामयाब रहा
  •     आसमान से सरहद पर नज़र रखेगा कार्टोसैट
  •     500 किमी ऊंचाई से दुश्मन के टैंकों की गिनती में सक्षम
  •     यह छोटी चीजों पर भी नजर रख सकता है
  •     स्मार्ट सिटी नेटवर्क की योजनाओं में भी मददगार
  •     भारत के पास पहले से ऐसे पांच सैटेलाइट मौजूद है
  •     कार्टोसैट-2 श्रृंखला का उपग्रह रक्षा बलों के लिए समर्पित है
  •     ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान पर ले जाए गए इन उपग्रहों का कुल वजन लगभग 955 किलोग्राम है.
 संबंधित टैग:-
इसरो ने लॉन्च किया पीएसएलवी सी-38
पीएसएलवी सी 38 की सफल लॉन्चिंग
PSLV-C38 Successfully Launches 31 Satellites in a Single Flight
pslv-c38: Isro makes some innovations



सोमवार, 5 जून 2017

दुनिया की बर्बादी के खलनायक





प्राचीन और मध्ययुगीन इतिहास में राजाओं, सुल्तानों और बादशाहों की तानाशाही के तमाम सारे उदाहरण मिलते हैं। राजा, महाराजा, सुल्तान या बादशाह स्वेच्छारी हो सकते थे। क्योंकि उनके ऊपर जनतांत्रिक नियंत्रण नहीं था। विश्व के राजनीतिक परिदृश्य में जब लोकतंत्र का आगाज हो रहा था वैसे हालात में तानाशाही शासन की अवधारणा समझ से परे थी। लेकिन सच ये है कि दुनिया ने ऐसे सनकियों का शासन देखा जिससे दुनिया बर्बादी के कगार पर पहुंची। आइए जानने की कोशिश करते हैं कि आखिर ऐसा क्या था जब शासक स्वेच्छाचारी हो गए।

1.
किम जोंग




उत्तर कोरिया का तानाशाह किम जोंग उन जिस तरह से हर काम पर अड़ियल रुख अपनाता है और हर फैसले पर अडिग रहता उससे माना जा रहा है कि वह दुनिया का अगला हिटलर साबित हो सकता है। किम जोंग की सनक और खौफनाक कारनामों के किस्से मशहूर हैं। वह एक ऐसा तानाशाह है जो अपने सगे-संबंधियों पर भी रहम नहीं करता। किसी को मौत देना उसके लिए लिए सबसे छोटा काम है। आइए जानते हैं किम जोंग उन खतरनाक कारनामों के बारे में जिसे सुनते ही दिल में सिहरन उठ जाती है।


फूफा को 120 शिकारी कुत्तों के सामने फेंकवाया

किम जोंग ने साल 2013 में अपने सगे फूफा को बेरहमी से मरवा दिया था। उसने अपने फूफा को खूंखार कुत्तों के सामने डलवा दिया था। 120 शिकारी कुत्तों ने किम के फूफा जेंग सेंग को नोच नोच कर मारडाला था। बताया जाता है कि जिस फूफा को सनकी तानाशाह ने मरवा दिया उसी ने उसे सियासत की बारीकियां सिखाई थीं। लेकिन किम जोंग को लगने लगा था कि फूफा का प्रभाव उससे ज्यादा हो रहा है तो उसने फूफा पर कुछ आरोप लगाकर उसे उसकी हत्या करा दी।

बुआ को दिया जहर


किम जोंग की बुआ ने जब अपने पति की मौत पर सवाल उठाया तो उसे भी जहर दिला दिया गया। इसके बाद बताया गया कि उसकी मौत हार्ट अटैक से हुई है। 2015 में कोरिया भागे एक अफसर ने सनसनीखेज खुलासा करते हुए कहा था कि जोंग ने अपनी बुआ की हत्या करा दी थी।


झपकी लेने में सेना प्रमुख को मरवाया


किम जोंग को फरमान पर आनाकानी पसंद नहीं है, क्योंकि ऐसा करने वाले को सिर्फ सजा--मौत होती है। तानाशाह के बार किम जोंग ने उत्तर कोरिया के रक्षा प्रमुख ह्योंग योंग तोप से उड़वा दिया था। उनकी गलती सिर्फ इतनी थी कि उन्होंने किम जोंग की एक मीटिंग में झपकी लेने की हिमाकत कर दी थी।

नहीं रोने पर होती है सजा मौत

कहा जाता है कि किंम जोंग के पिता की जब मौत हुई तो ऐलान किया गया कि अंतिम संस्कार में मौजूद हर किसी को रोना होगा। लेकिन जिन लोगों के मौके पर आंसू नहीं आए उन्होंने उन्हें सजा मौत मिली। शोक नहीं वाले लोगों को गिरफ्तार किया गया और गोली मार दी गई।


स्कूल में अश्लील साहित्य पढ़ते हुए मिला

कहा जाता है कि किंग जोंग ने स्विटजरलैंड के इंटरनेशनल स्कूल ऑफ बर्न में दूसरे नाम से पढ़ाई की। स्कूल में वह काफी कमजोर छात्र था। उसकी सोहबत ठीक नहीं थी। एक बार वो स्कूल में उसे पोर्न मैगजीन पढ़ते हुए पकड़ा गया था।




सनक में लेता है कोई भी फैसला

किम जोंग उन को सबसे सनकी तानाशाह बताया जा रहा है। कहा जा रहा है कि 2015 में साउथ कोरिया में बार्डर पर लाउडस्पीकर लगाकर अपना प्रोपेगंडा लोगों को सुनाना शुरू किया था। इस पर किम जोंग उन बौखला गया और सीमा पर अपने सैनिक भेज दिया। किम जोंग ने ऐलान किया कि अगर साउथ कोरिया ने लाउड स्पीकर नहीं बंद किए तो उसकी सेना हमला कर देगी। इसके बाद बड़ी मशक्कत से दोनों देशों का विवाद सुलझा था।


खुद को भगवान बताता है तानाशाह

उत्तरी कोरिया का तानाशाह किम जोंग खुद को भगवान के रूप में पेश करता है। वह अपने देश के नागरिकों के बीच ऐसे तथ्य पेश करता है जिसे लोग उसे भगवान मानने लगें।

2.
मुसोलिनी की कहानी और आतंक का राज




 

दुनिया के फलक पर जर्मनी के तानाशाह एडोल्फ हिटलर के उभरने से पहले इटली का तानाशाह बेनितो मुसोलिनी अपने देश का सबसे लोकप्रिय नेता था. उसको लोगों ने इतना प्याेर और सम्मा दिया कि उसको ' लीडर' कहा जाने लगा। लेकिन जब उनकी नीतियों से लोगों का मोहभंग हुआ तो विरोधियों ने 1945 में उसको गोलियों से उड़ा दिया। इसके बाद भी लोगों का गुस्सा शांत नहीं हुआ तो लोगों ने इस पर भी उसकी शरीर को चौराहे पर नुमाइश के लिए टांग दिया था।

सबसे कम उम्र में बना पीएम

बेनितो मुसोलिनी (1883-1945) इटली की नेशनल फासिस्टन पार्टी का नेता था। वह 1922-1943 तक देश का प्रधानमंत्री रहा। मुसोलिनी इटली के इतिहास में सबसे कम उम्र में प्रधानमंत्री बना। 1925 तक उसने संवैधानिक तरीके से शासन किया। लेकिन उसके बाद उसने लोकतंत्र का गला घोंट दिया और कानूनी रूप से तानाशाही को अपना लिया। वह इटली में फासीवाद का जनक था। तानशाह होने के बाद उसने विरोधियों का अपनी खुफिया पुलिस के जरिये सफाया कर दिया।

जब मुसोलिनी ने जर्मनी का दिया साथ

द्वितीय विश्व युद्ध में मुसोलिनी ने जर्मनी का साथ दिया। लेकिन उसके नेतृत्व पर सवाल भी उठने लगे। इस वजह से इटली के राजा ने उसको बर्खास्त कर दिया और उसको गिरफ्तार कर लिया गया। लेकिन जर्मनी ने उसको जेल से रिहा करा लिया। 1945 में जब यह बिल्कु।ल साफ हो गया कि जर्मनी द्वितीय विश्वय युद्ध हार रहा है तो मुसोलिनी ने स्विट्जरलैंड भागने की कोशिश की लेकिन वो अपनी प्रेमिका के साथ पकड़ा गया. उनकी हत्या कर दी गई। उसके शव मिलान लाया गया। उस दौर के एक अखबार ने दावा किया था कि उनके शव नुमाइश के लिए चौराहे पर टांग दिया गया था। मुसोलिनी विरोधी पार्टीसन गुट के प्रमुख ने तब कहा भी था कि ऐसी घटनाएं तानाशाही के खिलाफ लोगों के गुस्सेग को दर्शाती है और यह गलत नहीं है।

3.
 हिटलर



 

तानाशाही और क्रूरता के बारे में जब कभी हम चर्चा करते हैं तो हिटलर को हम लोग कैसे भूल सकते हैं। किसी खड़ूस व्यक्ति से बहस हो जाए तो वह हमें हिटलर सा लगता है, स्कूल का कोई सख्त टीचर हो या ऑफिस में हर पल आप पर नज़र रखने वाले बॉस हों आप उनको हिटलर कहकर बुलाने में जरा भी गुरेज नहीं करते।

हिटलर की ज़िंदगी से जुड़ी कई दिलचस्प कहानियां हैं। किसी कहानी में वो हीरो की तरह नजर आता है तो किसी में विलेन। लेकिन सच ये है कि एडोल्फ हिटलर 20 वीं सदी का सबसे क्रूर तानाशाह था। प्रथम विश्व युद्ध के बाद 1933 में वह समाजवादी जर्मन वर्कर्स पार्टी को सत्ता में लाने के बाद उसने जर्मन सरकार पर अधिपत्य कर लिया।

एडोल्फ हिटलर का जन्म आस्ट्रिया में 20 अप्रैल 1889 को हुआ। 17 वर्ष की उम्र में पिता के निधन के बाद वो वियना चला गया। पैसों की तंगी के कारण वह पोस्टकार्डों पर चित्र बनाकर काम चलाने लगा। यही वो समय था जब हिटलर के मन में साम्यवादियों और यहूदियों के प्रति घृणा ने जन्म लिया।

हिटलर ने एक विशाल जर्मन साम्राज्य की स्थापना का लक्ष्य जमर्नी की जनता के सामने रखा। उसका मानना था कि ऐसा करने से जर्मन सुख से रह सकेंगे। धीरे-धीरे उसका प्रभाव बढ़ने लगा। उसने स्वास्तिक को अपने दल का चिह्र बनाया जो और भूरे रंग की पोशाक पहने सैनिकों की टुकड़ी तैयार की। 1923 में उसने अपनी आत्मकथा मीन कैम्फ ("मेरा संघर्ष") लिखी। इसमें उसने लिखा कि आर्य जाति सभी जातियों से श्रेष्ठ है और जर्मन आर्य हैं। उन्हें विश्व का नेतृत्व करना चाहिए। यहूदी सदा से संस्कृति में रोड़ा अटकाते आए हैं। जर्मन लोगों को साम्राज्यविस्तार का पूर्ण अधिकार है। फ्रांस और रूस से लड़कर उन्हें जीवित रहने के लिए भूमि प्राप्ति करनी चाहिए।

1930-32
में जर्मनी में बेरोज़गारी बहुत बढ़ गई। संसद में नाजी दल के सदस्यों की संख्या 230 हो गई। 1932 के चुनाव में हिटलर को राष्ट्रपति के चुनाव में सफलता नहीं मिली। जर्मनी की आर्थिक दशा बिगड़ती गई और विजयी देशों ने उसे सैनिक शक्ति बढ़ाने की अनुमति की। 1933 में चांसलर बनते ही हिटलर ने जर्मन संसद को भंग कर दिया, साम्यवादी दल को गैरकानूनी घोषित कर दिया और राष्ट्र को स्वावलंबी बनने के लिए ललकारा।


60
लाख यहूदियों की कराई थी हत्या

1933
में जर्मनी की सत्ता पर जब एडोल्फ हिटलर काबिज हुआ था तो उसने वहां एक नस्लवादी साम्राज्य की स्थापना की थी। वह यहूदियों से सख्त नफरत करता था। यहूदियों के प्रति हिटलर की इस नफरत का नतीजा नरसंहार के रूप में सामने आया। होलोकास्ट इतिहास का वो नरसंहार था, जिसमें छह साल में तकरीबन 60 लाख यहूदियों की हत्या कर दी गई थी। इनमें 15 लाख तो सिर्फ बच्चे थे।


दूसरे विश्वयुद्ध का सबसे बड़ा कारण था हिटलर

द्वितीय विश्व युद्ध तब हुआ, जब हिटलर के आदेश पर नाजी सेना ने पोलैंड पर आक्रमण किया। फ्रांस और ब्रिटेन ने पोलैंड को सुरक्षा देने का वादा किया था और वादे के अनुसार उन दोनो ने नाज़ी जर्मनी के खिलाफ युद्ध की घोषणा कर दी। इसके बाद जर्मनी ने रूस पर आक्रमण किया। जब अमेरिका द्वितीय विश्वयुद्ध में सम्मिलित हो गया तो हिटलर की सामरिक स्थिति बिगड़ने लगी।


हर पल सताता था मौत का डर

हिटलर को अपनी मौत का बहुत डर था। ऐसा कहते हैँ कि कहीं उसके खाने में ज़हर मिला दिया गया हो। यही वजह थी कि वह अपने सेवकों के चखने के बाद ही खाना खाता था। उसे ऐसा लगता था कि इंग्लैण्ड उसे मारना चाहता है जिस कारण वह हर वक्त चौंकन्ना रहता था।



read it also :
 


शादी के अगले दिन कर ली थी आत्महत्या

आत्महत्या करने से कुछ घंटों पहले ही उसने अपनी प्रेमिका ईवा ब्राउन से शादी की थी। 'हिटलर्स लास्ट डे: मिनट बाई मिनट' क़िताब के मुताबिक, 30 अप्रैल को उसने खुद को गोरी मार ली थी। उस वक्त वह उस बंकर के कांफ्रेंस रूम में था जिसमें वह रहता था। क़िताब के अनुसार, हिटलर दूसरे विश्वयुद्ध में जर्मनी की हार से बहुत दुखी था और इसी कारण वह अवसाद में चला गया था। उसके आत्महत्या करने के तुरंत बाद उसकी बीवी ईवा ब्राउन ने भी जहर खाकर आत्महत्या कर ली थी।

'
सद्दाम हुसैन (अनसुनी कहानियां )

 






 'सद्दाम हुसैन, पॉलिटिक्स ऑफ़ रिवेंज' लिखने वाले सैद अबूरिश का मानना है कि सद्दाम की बड़ी-बड़ी इमारतें और मस्जिदें बनाने की वजह तिकरित में बिताया उसका बचपन था, जहां उसके परिवार के लिए उनके लिए एक जूता तक खरीदने के लिए भी पैसे नहीं होते थे। दिलचस्प बात ये है कि सद्दाम अपने जिस भी महल में सोता था। वो सिर्फ कुछ घंटों की ही नींद लेता था। वो अक्सर सुबह तीन बजे तैरने के लिए उठ जाया करता था। इराक जैसे रेगिस्तानी मुल्क में पहले पानी धन और ताक़त का प्रतीक हुआ करता था और आज भी है।


सद्दाम के हर महल में फव्वारों और स्वीमिंग पूल की भरमार रहती थी। कफलिन लिखते हैं कि सद्दाम को स्लिप डिस्क की बीमारी थी। उनके डाक्टरों ने उन्हें सलाह दी थी कि इसका सबसे अच्छा इलाज है कि वो खूब सद्दाम हुसैन के सारे स्वीमिंग पूलों की बहुत बारीकी से देखभाल की जाती थी। उसका तापमान नियंत्रित किया जाता था और ये भी सुनिश्चित किया जाता था कि पानी में जहर तो नहीं मिला दिया गया है।


सद्दाम पर एक और किताब लिखने वाले अमाजिया बरम लिखते हैं कि ये देखते हुए कि सद्दाम के शासन के कई दुश्मनों को थेलियम के ज़हर से मारा गया था, सद्दाम को अंदर ही अंदर इस बात का डर सताता था कि कहीं उन्हें भी कोई जहर दे कर मार दे। हफ्ते में दो बार उनके बग़दाद के महल में ताज़ी मछली, केकड़े, झींगे और बकरे और मुर्गे के गोश्त की खेप भिजवाई जाती थी। राष्ट्पति के महल में जाने से पहले परमाणु वैज्ञानिक उनका परीक्षण कर इस बात की जांच करते थे कि कहीं इनमें रेडियेशन या जहर तो नहीं है।



 related tags:
















 
Child Education Child Shiksha - Gk Updates | Current affairs